वरिष्ठ और यशस्वी साहित्यकार प्रभात त्रिपाठी पर रायगढ़ में राष्ट्रीय कार्यक्रम 

Published by [email protected] on

Spread the love

• रायगढ़ में जुटेंगे देश भर के जाने-माने साहित्यकार • कविता पोस्टर प्रदर्शनी और फिल्म प्रदर्शन भी रायगढ़। साहित्य अकादमी, छत्तीसगढ़ रायगढ़ के यशस्वी साहित्यकार प्रभात त्रिपाठी पर केंद्रित कार्यक्रम 25 व 26 फरवरी 2023, शनिवार और रविवार आयोजित कर रही है।

रायगढ़ के होटल अंश इंटरनेशनल के सभागार में आयोजित ‘प्रभात त्रिपाठी एकाग्र’ में देश भर के विभिन्न हिस्सों से जाने-माने साहित्यकार और विचारक इसमें हिस्सा लेने रायगढ़ पहुंच रहे हैं। कार्यक्रम दोनों दिन सुबह साढ़े दस बजे से शाम छह बजे तक चलेगा।  साहित्य अकादमी, छत्तीसगढ़ के अध्यक्ष ईश्वर सिंह दोस्त ने बताया कि प्रभात त्रिपाठी हिंदी के ऐसे शीर्ष साहित्यकारों में हैं, जिन्होंने कविता, कहानी, अनुवाद और आलोचना आदि क्षेत्रों में विपुल और बहुविध लेखन किया है। संपादन, अनुवाद और शिक्षण के क्षेत्रों में भी उनका बड़ा योगदान रहा है। गहन संवेदना, बारीक आलोचकीय अंतर्दृष्टि और अकादमिक उत्कर्ष से बनी उनकी रचनाशीलता ने ज्ञान और भाव के नए रूपाकार गढ़े हैं। उन्हें शमशेर सम्मान, मुक्तिबोध सम्मान, माखनलाल चतुर्वेदी सम्मान, केंद्रीय साहित्य अकादमी का अनुवाद पुरस्कार और कृष्ण बलदेव वैद सम्मान जैसे देश के महत्त्वपूर्ण साहित्यिक सम्मान प्राप्त हो चुके हैं।  उन्होंने बताया कि प्रभात त्रिपाठी के गृह नगर रायगढ़ में हो रहे इस कार्यक्रम का संयोजन छत्तीसगढ़ के युवा रचनाकार बसंत त्रिपाठी कर रहे हैं। इस कार्यक्रम में प्रभात त्रिपाठी के रचनात्मक व्यक्तित्व और कृतित्व के विभिन्न आयामों पर विमर्श किया जाएगा। इस अवसर पर उनकी कविताओं पर आधारित एक पोस्टर प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी, जिसका उद्घाटन तारण प्रकाश सिन्हा, कलेक्टर रायगढ़ करेंगे। इस पोस्टर प्रदर्शनी को कलाकार मनोज श्रीवास्तव ने बनाया है। 25 फरवरी को शाम 6 बजे सिद्धार्थ त्रिपाठी के निर्देशन में बनी फिल्म ‘एक कुकुर आउ ओकर आदमी’ का प्रदर्शन भी किया जाएगा।   

कार्यक्रम का उद्घाटन सत्र 25 फरवरी को सुबह 10.30 बजे आयोजित किया जाएगा। इसमें वरिष्ठ साहित्यकार नंद किशोर आचार्य, ध्रुव शुक्ल, अशोक झा और कुलजीत सिंह अपने वक्तव्य रखेंगे। इस सत्र की अध्यक्षता रायगढ़ के वरिष्ठ रचनाकार मुमताज भारती करेंगे। इसी दिन दोपहर 2 बजे ‘आस्वाद के विविध प्रारूप’ : प्रभात त्रिपाठी की आलोचना’ विषय पर केंद्रित सत्र होगा, जिसमें युवा आलोचक अरुणेश शुक्ल, भागवत प्रसाद और ईश्वर सिंह दोस्त अपने वक्तव्य रखेंगे। इस सत्र की अध्यक्षता वरिष्ठ कवि व विचारक नंद किशोर आचार्य करेंगे। इसी दिन शाम 4 बजे प्रभात त्रिपाठी के साथ एक संवाद सत्र होगा, जिसका नाम उनके ही एक संग्रह के नाम पर ‘चुप्पी की गुहा में शंख की तरह’ रखा गया है। इसके बाद रायगढ़ के वरिष्ठ रंगकर्मी रवींद्र चौबे प्रभात त्रिपाठी की कहानी तलघर का पाठ करेंगे। ईश्वर सिंह दोस्त ने बताया कि 26 फरवरी को सुबह 10.30 बजे ‘कुछ सच कुछ सपने: प्रभात त्रिपाठी की कविता व कथा साहित्य विषय’ पर विमर्श सत्र होगा। इसमें वरिष्ठ साहित्यकार प्रभुनारायण वर्मा, लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता, प्रवीण प्रवाह और युवा साहित्यकार अच्युतानंद मिश्र, महेश वर्मा व वसु गंधर्व वक्तव्य देंगे। इस सत्र की अध्यक्षता वरिष्ठ कवि ध्रुव शुक्ल करेंगे। इसी दिन दोपहर 2 बजे ‘रचना के साथ : प्रभात त्रिपाठी की रचनात्मकता के विविध आयाम’ पर केंद्रित विमर्श सत्र होगा। इस में वरिष्ठ साहित्यकार चितरंजन कर और युवा रचनाकार विनोद तिवारी, राकेश मिश्र व भागवत प्रसाद अपने वक्तव्य देंगे। इस सत्र की अध्यक्षता वरिष्ठ रचनाकार कुलजीत सिंह करेंगे। शाम 4 बजे ‘साकार समय में: संस्मरणों की रोशनी में प्रभात त्रिपाठी’ सत्र होगा। इस सत्र में रायगढ़ के वरिष्ठ साहित्यकार व संस्कृति कर्मी मुमताज भारती, सुचित्रा त्रिपाठी, राकेश बड़गैयां और हरकिशोर दास प्रभात त्रिपाठी से जुड़े अपने संस्मरण सुनाएंगे। इस सत्र की अध्यक्षता रायगढ़ के वरिष्ठ पत्रकार सुभाष त्रिपाठी करेंगे। अंतिम दिन का आखिरी सत्र कविता पाठ का होगा। शाम 5 बजे हिंदी के वरिष्ठ व यशस्वी कवि प्रभात त्रिपाठी, नंद किशोर आचार्य और ध्रुव शुक्ल अपनी कविताओं का पाठ करेंगे। साहित्य अकादमी के अध्यक्ष ईश्वर सिंह दोस्त ने रायगढ़ के बौद्धिक व साहित्यिक समाज और खास तौर पर युवाओं व छात्रों से अपील की है कि वे इस कार्यक्रम से जुड़ कर अपने शहर की शीर्ष रचनाशीलता के सम्मान में भागीदार बनें।


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.