छत्तीसगढ़ में पहली बार राज्य स्तरीय पंचगव्य चिकित्सक सम्मेलन का आयोजन

Published by raj boss on

Spread the love

छत्तीसगढ़ में पहली बार राज्य स्तरीय पंचगव्य चिकित्सक सम्मेलन का आयोजन 28 जून को 
– प्रदेश सहित 7 राज्यों से शामिल होंगे नागरिक
– कांचीपुरम विद्यापीठम के गुरूकुलपति डॉ. निरंजन वर्मा होंगे मुख्य अतिथि व मुख्य वक्ता
– सभी गौभक्तों, गौ पालकों, समाजसेवी संस्था प्रमुखों व नागरिकों को कार्यक्रम में शामिल होने का आग्रह
राजनांदगांव 26 जून 2022। छत्तीसगढ़ में पहली बार राज्य स्तरीय पंचगव्य चिकित्सक सम्मेलन का आयोजन 28 जून 2022 को संस्कारधानी राजनांदगांव के गौरव पथ रोड बसंतपुर स्थित पद्मश्री गोविंदराम निर्मलकर ऑडिटोरियम में किया जाएगा। कार्यक्रम में पंचगव्य विद्यापीठ्म कांचीपुरम तमिलनाडु के गुरूकुलपति डॉ. निरंजन वर्मा द्वारा विशेष व्याख्यान दिया जाएगा। कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ प्रदेश के विभिन्न जिलों के अलावा उत्तरप्रदेश, ओडि़सा, पश्चिम बंगाल, झारखंड, महाराष्ट्र, बिहार से भी लोग शामिल होंगे।
कार्यक्रम के संयोजक गौरक्षा अनुसंधान केन्द्र लीटिया राजनांदगांव के आर्य प्रमोद ने बताया कि छत्तीसगढ़ पंचगव्य डॉक्टर असोसिएशन के तत्वधान में प्रदेश में पहली बार पंचगव्य चिकित्सक सम्मेलन का आयोजित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि कार्यक्रम के मुख्य अतिथि व मुख्य वक्ता पंचगव्य विद्यापीठ्म कांचीपुरम तमिलनाडु के गुरूकुलपति डॉ. निरंजन वर्मा पिछले 20 वर्षों से गाय के पंचगव्य पर शोध कार्य कर रहे हैं। पूरे भारत में 50 से अधिक गुरूकुलों की स्थापना उनके द्वारा की गई है। गोमाता आधारित पंचगव्य चिकित्सा को आधिकारिक मान्यता दिलाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है। प्रदेश में डॉ. निरंजन वर्मा का पहली बार आगमन हो रहा है। इस कार्यक्रम के विशेष महत्व को ध्यान में रखते हुए देश व प्रदेश से गौरक्षा से जुड़े लोगों को आमंत्रित किया गया है। आयोजक समिति द्वारा नगरवासियों को कार्यक्रम में अधिक से अधिक संख्या में शामिल होने का आग्रह किया गया है। 


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.