शासकीय महाविद्यालय फास्टरपुर कॉलेज में भारतीय संविधान दिवस को लेकर कॉलेज में कार्यक्रम रखा गया

Published by [email protected] on

Spread the love

खबर है मुंगेली जिले के शासकीय महाविद्यालय फास्टरपुर कॉलेज का जहां आज भारतीय संविधान दिवस को लेकर कॉलेज में कार्यक्रम रखा गया था कॉलेज स्टाफ सहित कॉलेज के छात्र छात्राओं ने शपथ ग्रहण की
इसी दौरान कॉलेज की शिक्षकों ने छात्र छात्राओं को उनके मौलिक अधिकारों को बताया साथ ही भारतीय संविधान कब बनाया गया और उन्हें बनाने का क्या उद्देश्य था यह सब जानकारी भी छात्र छात्राओं को दिया गया
आपको यह भी बता दें कि भीम रेजीमेंट मुंगेली जिला के अध्यक्ष व उनके टीम के कार्यकर्ता कॉलेज परिसर में अतिथि के रूप में पहुंचे थे उन्होंने बच्चों को संबोधित करते हुए उनके मौलिक अधिकार व खुद की लड़ाई को लड़ने की जानकारी भी दिया


आज हम यहां सविधान दिवस मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं हर भारतीय नागरिक के लिए 26 नवंबर सविधान दिवस बेहद गर्व का दिन है कोई भी देश बिना सविधान के नहीं चल सकता !
संविधान में ही देश के सिद्धांत और उसको चलाने के तौर तरीके होते हैं 26 नवंबर 1949 के दिन देश की संविधान सभा ने संविधान को अपनाया था!
यह सविधान ही है जो हमें एक आजाद देश का आजाद नागरिक की भावना का एहसास कराता है! जहां सविधान के दिए मौलिक अधिकार हमारी ढाल बनकर हमें हमारा हक दिलाते हैं वहीं इसमें दिए मौलिक कर्तव्यों को हमारी जिम्मेदारियां भी याद दिलाती है!
आपको यह भी बता दें कि 26 नवंबर के दिन को देश में राष्ट्रीय कानून दिवस के रूप में भी मनाया जाता है!


हमारा देश जो 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ था तब हमारे पास अपना कोई संविधान नहीं था! संविधान के बगैर देश नहीं चलाया जा सकता था इसलिए इसको बनाने के लिए एक संविधान सभा का गठन किया गया पंडित जवाहरलाल नेहरू.राजेंद्र प्रसाद. डॉ बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर. सरदार वल्लभभाई पटेल श्यामा प्रसाद मुखर्जी मौलाना अबुल कलाम आजाद आदि इस सभा के प्रमुख सदस्य थे!
संविधान की ड्राफ्टिंग समिति के अध्यक्ष डॉक्टर भीमराव अंबेडकर थे इसलिए उन्हें संविधान निर्माता भी कहा जाता है!
संविधान को तैयार करने में 2 वर्ष 11 माह 18 दिन लगे थे यह 26 नवंबर 1949 को पूरा हुआ और इसे अपनाया गया इसके बाद 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू हुआ था!!

विधानपालिका कार्यपालिका और न्यायपालिका का क्या काम है उनकी देश को चलाने में क्या भूमिका है इन सभी बातों का जिक्र संविधान में है!
संविधान दिवस पर हमें जीवन भर अपने मौलिक कर्तव्य और देश का कानून का पालन करने का प्रण लेना चाहिए देश का अच्छा और जिम्मेदार नागरिक बनने से ना सिर्फ संविधान का मकसद पूरा होगा बल्कि संविधान निर्माताओं के सपनों के राष्ट्र का निर्माण होगा….

इस कार्यक्रम में समस्त छात्र-छात्राएं एवं कॉलेज के शिक्षक शिक्षिकाएं उपस्थित रहे
मुंगेली से पोखराज खांडे की रिपोर्ट


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.